कैंसर से बचने के लिए क्या नहीं खाना और करना चाहिए।

 कैंसर से बचने के लिए क्या नहीं  खाना और  करना चाहिए।

    कैंसर से बचने के लिए क्या नहीं खाना चाहिए यह आप भी जानना चाहते होंगे ।क्योंकि कैंसर जैसी बड़ी बीमारी से हर कोई बचना चाहता है और स्वस्थ रहना चाहता है।

कैंसर की बीमारी बहुत घातक होती है। जिसके  होने पर हमारा शरीर तथा जीवन दोनों संकट में आ जाता है।
कैंसर से बचने के लिए क्या नहीं  खाना और  करना चाहिए।
        इस रोग के होने पर इंसान की पूरी पूंजी इलाज में नष्ट हो जाती है और फिर भी कई लोग अपने जीवन से हाथ धो बैठते हैं।

 कैंसर कई प्रकार का होता है। जैसे ब्लड कैंसर,स्किन कैंसर, लिवर कैंसर आदि कई तरह के होते हैं। इस रोग के बचाव के लिए हमें अपने गलत खानपान को सुधारना चाहिए जो कि काफी हानिकारक होता है। जिसे डॉक्टर खाने से मना करते हैं

 तथा कम सेवन के लिए कहते हैं। हम आपको कुछ चीजों को बताएंगे जिससे आप कैंसर होने के शंकट से बच सकेंगे।
  बहुत से लोग सोचते हैं कि कैंसर मुख्य रूप से वंशानुगत है। वास्तव में, कैंसर के लिए महत्वपूर्ण कारक एक अस्वास्थ्यकर जीवन शैली, असंतुलित आहार है।

 ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनका जितना अधिक आप उपभोग करते हैं, कैंसर होने का खतरा उतना ही अधिक होता है। डॉक्टर इसे केवल थोड़ा सा खाने या उन्हें बिल्कुल नहीं खाने की सलाह देते हैं। 
कैंसर से बचने के लिए क्या नहीं  खाना और  करना चाहिए-
● तेल का कम इस्तेमाल
●अपने शरीर के वजन को संतुलित रखें भरपूर नींद लें
●धूम्रपान न करें।
●शारीरिक श्रम करें।
●नमक का कम सेवन।
●भावनाओं पर नियंत्रण करना।
●अचार खाना
●रिफाइंड शुगर।
●एल्कोहल ना पीना।
●रात भर का बचा हुआ खाना 
●आलू चिप्स।
    आदि चीजों पर ध्यान रखकर कैंसर से काफी हद तक बचा जा सकता है।
तेल का कम इस्तेमाल
आप जो तेल का प्रयोग करते हैं। क्या वह तेल आप के लिए कितना फायदेमंद है? इसलिए अच्छा तेल का प्रयोग करना चाहिए ।कोकोनट ऑयल तथा ऑलिव ऑयल का प्रयोग खाना पकाने में करना चाहिए तथा तेल की चीजें  कम खानी चाहिए।

अपने शरीर के वजन को संतुलित रखें
 अपने शरीर का वजन संतुलित रखना चाहिए। संतुलित होने पर स्तन कैंसर और मलाशय कैंसर होने का खतरा कम रहता है

भरपूर नींद लेना चाहिए
 अच्छी तथा भरपूर नींद लेना हमारे शरीर के लिए आवश्यक होता है। यह भी कैंसर होने का कारण बन सकता है। इसलिए हमें 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लेनी चाहिए ।

. तला हुआ खाना
तले हुए खाद्य पदार्थ खस्ता और स्वादिष्ट लगते हैं, लेकिन आप यह नहीं जानते होंगे कि तले हुए खाद्य पदार्थ न केवल वसा से भरपूर होते हैं, बल्कि उच्च तापमान पर भी तला हुआ होता है।

 धूम्रपान ना  करना
धूम्रपान पान, पान मसाला आदि का सेवन हमारे शरीर के लिए हानिकारक है। इसके सेवन से कैंसर होने का खतरा बहुत होता है। इसलिए किसी तरह का नशा नहीं करना चाहिए।

रात भर का बचा हुआ खाना 
   यदि खाना घर पर पकाया जाता है, और उसे समाप्त नहीं किया जाता है, तो हमें अक्सर फेंकने के बजाय बाद के भोजन के लिए इसे संग्रहीत करने की आदत होती है।

हालांकि, आप यह नहीं जान सकते हैं कि विस्तारित भंडारण अवधि के साथ, रात भर व्यंजन केवल खराब नहीं हो सकते हैं, कुछ रोगजनक बैक्टीरिया, वायरस या कवक का उत्पादन कर सकते हैं। नाइट्राइट भी है।

शारीरिक श्रम करना
शारीरिक श्रम करना हमारे शरीर के लिए बहुत लाभदायक होता है। खुद को व्यस्त रखना चाहिए जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है।

और रोगी होने की संभावना कम रहती है। व्यायाम तथा एक्सरसाइज करना शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

भावनाओं पर नियंत्रण
भावनाओं पर नियंत्रण रखना चाहिए क्योंकि यह भी एक कारण है। कैंसर रोग उत्पन्न होने का ज्यादा भावुक रहने पर पौष्टिक आहार भी बचाव नहीं कर पाता है ।

आलू चिप्स
आलू चिप्स फ्रेंच फ्राई तरह तरह बनी चीजों से मोटापा बढ़ता है और दिल की बीमारी भी होती है परंतु अब के मिलावटी जवाने में यह सब कैंसर होने का कारण भी माना जाता है।

अल्कोहल ना पीना
एल्कोहल पीना बहुत हानिकारक होता है ।इसके कई बीमारियां होती हैं। इसे पीने से कैंसर रोग के होने का खतरा बना रहता है। अल्कोहल को विषैला तरल भी कहते हैं।

 नमक का कम सेवन
 नमक का इस्तेमाल काफी महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि इसका प्रयोग हर भोज्य पदार्थों में किया जाता है परंतु नमक का सेवन कम करना चाहिए क्योंकि इसके अधिक सेवन से पेट का कैंसर हो सकता है।

रेड मीट
रेड मीट का सेवन कम करना चाहिए क्योंकि  इससे कैंसर हो  सकता है

अचार खाना
नमकीन खाद्य पदार्थों में एक उच्च लवणता होती है, जो आसानी से नाइट्राइट का उत्पादन कर सकती है। अंतर्ग्रहण के बाद, नाइट्राइट और प्रोटीन मिलकर नाइट्रोसमाइन बनाते हैं, जो एक शक्तिशाली कार्सिनोजेन है।

रिफाइंड शुगर
 कैंसर की कोशिकाओं को रिफाइंडेड शुगर पसंद होता है ।जो कि इंसुलिन के स्तर को काफी बढ़ाता है। जिससे कैंसर रोग उत्पन्न हो सकता है।

शक्कर का सेवन कम करना
शक्कर के ज्यादा सेवन से कोलोरेक्टल कैंसर हो सकता है। इसलिए शक्कर को खाने में कम प्रयोग करें इससे मधुमेह रोग भी होता है।
 वातावरण में फैले प्रदूषण से भी कैंसर रोग हो सकता है प्रदूषण से दूर रहें और स्वस्थ स्वस्थ रहें

 हरी सब्जियों का सेवन अधिक करना चाहिए सब्जियों तथा फलों में विटामिन आदि तत्व होते हैं जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

Post a comment

0 Comments